मजार हजरत ख्वाजा फखरुद्दीन गुरदेजी र.अ.

आप और आपकी बीवी के मजार तोशा खाने में हैं, जो बेगमी दालान से मिला हुआ है और उसका दरवाजा रौजा-ए-मुनव्वरा
के अन्दरूनी हिस्से में खुलता है। आप हजरत ख्वाजा गरीब नवाज र.अ. के करीबी रिश्तेदार, पीर भाई और मुरीद थे। आपकी औलाद खुद्दाम सैयदजादगान कहलीती है जिनको अन्दरूनी गुम्बद खिदमत का हक हासिल है। गुम्बद शरीफ, मजार अक्दस और उसका सभी सामान खुद्दाम हजरात के कब्जे में रहता है। यही खिदमत करते हैं, फूल और सन्दल चढ़ाते हैं और जायरीन को सलाम कराते हैं, गिलाफों और चादरों का चढ़ाना इन्हीं के जिम्मे है।

25 और 26 रजब को आपका उर्स धूमधाम से होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *